Ashish Chanchlani Biography | YouTube Life | LifeStory Hindi

         Ashish Chanchlani Biography


Ashish Chanchlani
Ashish Chanchlani




दोस्त वैसे तो आपने कई यूजर्स की बायोग्राफी की वीडियो देखी होंगी लेकिन आज मैं आपको इंडिया के टॉप दस में से एक Ashish Chanchlani  के जीवन के बारे में हम पूरी जानकारी देगी अस्सी संचालन ईयू के टॉप लीडर्स में से एक है मस्तिष्क की विधियों को भारत का हर युद्ध देखना पसंद करता है इनकी सार ईबीडी युद्ध से रिलेटिड होती है इनकी बनाई कई सारे वीडियो कॉमिक में होती है जिसपर मिलियन व्यूज हो जाता है जो उनकी सफाई था और पॉपुलैरिटी की पहचान दिलाती है लेकिन कहते है ना हर सफलता के पीछे बहुत कड़ा संघर्ष होता है ठीक उसी तरह से ई मेल बहुत सॉरी मुश्किलों का सामना किया है और यह मुकाम हासिल किया है कुछ नहीं दूसरों हम लोग कोशीश से Ashiah Chanchlani  की जीवन के बारे में हम लोग शुरु से जानते है आशीष चंचलानी का जन्म सात दिसंबर उन्नीस रन को उल्लास नगर महाराष्ट्र में हुआ था उनके पी था कंपनी सैलानी है और उनके माखन जी पर Ashish Chanchlani  है उनके एक बहन भी है जिसका नाम मुस्कान से चलाती है आशीष ने मुंबई के डेटा माइनिंग कॉलेज इंजीनियरिंग से पढ़ाई के बाद उन्होंने सिविल इंजीनियरिंग से बीटेक किया उन्होंने सीखने के लिए मरीजों एक्टिंग इस्टीट्यूट किया था एक दिन करना हमेशा से Ashish Chanchlani  का प्रयास चल रहा उनका अल्टीमेट गोल भी एक एक्टर बनना है इसी परेशानी के चलते अस्सी से चलनी में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को अपने स्टेज बनाए और यहाँ से वीडियो अपलोड करके पूरी दुनिया के सामने अपने टैलेंट को दिखाया असिस्टेंट चलानी अपनी कुछ को याद करके बताते हैं कि मैं बहुत बीज़ी स्टूडेंट था जो की तलाश में भी कुछ भी खा सकती नहीं रहता था मुझे आज भी याद है कि मैं बचपन से लोगों को एंटरटेन करना चाहता था एक दिन का परेशान होने के बावजूद भी उन्हें एक क्लास तक स्टेज को रैंकिंग करने की जरूरत नहीं मिल पाई आशीष को बचपन से ही मूवीज़ देखना दूसरों को मिमिक्री करना बहुत पसंद था और सबसे बड़ी बात यह है कि उस वक्त उनके पिता एक सिंगल स्क्रीन थिएटर चलाते थे और आज उनका खुद का मल्टिप्लेक्स हैं इसलिए उनके पिता भी इस फिल्मी दुनिया से थोड़ा कंटेंट में है आशीष बचपन से ही अपनी पिता के थिएटर में बैठकर हर तरह की एक गेंद स्क्वायर हुए जिसमें अक्षय कुमार उन्हें हमेशा से बेहतर रहे स्कूल के दौरान उनके कई बार अपने पेरेंट्स से कंप्लेंट की उनका प भाई में कोई इंटरेस्ट नहीं है और वह एक दिन का फुल टाइम प्रोफेशनल के रूप में करना चाहते थे लेकिन ऐसी कैटेगरी उन्हें समझाया कि देख मिटा पहले ही इंसान किसी भी फील्ड में क्यों नाकाम कर रहें लेकिन आज की इस कंपटीशन के वर्ल्ड में उसके पास एक बेसिक और मूल एजुकेशन होना बहुत जरूरी है मैं तुझे एक दिन करने से कभी नहीं भूलूंगा लेकिन मैं तुझे एजुकेशन छोड़ने भी नहीं दूंगा हर बच्चे.




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां